[वीडियो] इंसेफलाइटिस के शिकार बच्चे: ये बच्चे किसके बच्चे हैं?, द मार्जिन बुलेटिन, एपिसोड 2

18178

बिहार में इंसेफलाइटिस से अब तक डेढ़ सौ से ज्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है. इंसेफलाइटिस से इतनी बड़ी संख्या में मासूमों की मौत सरकार और प्रशासन की लापरवाही को ही उजागर करते हैं. इस बीमारी का अब तक कोई स्पष्ट कारण पता नहीं चल पाया है. लेकिन हर बार यह बीमारी इन निश्चित महीनों में ही दस्तक देती है. ऐसे में इसके बचाव के उपाय पहले किए जा सकते थे पर सरकार ने ऐसा नहीं किया. कुपोषित बच्चे ही इस बीमारी के शिकार बनते नजर आ रहे हैं. कुपोषित बच्चे किनके होंगे? अधिकतर पीड़ित बच्चे वंचित तबकों से आते है, शायद यही वजह है कि सरकार और प्रशासन को इनकी मौत से कोई फर्क नहीं पड़ रहा. और ये बच्चे बार-बार इंसेफलाइटिस की वजह से मारे जा रहे हैं. इस बार का द मार्जिन का एपिसोड इन्हीं बच्चों पर केंद्रित है.

इंसेफलाइटिस पर द मार्जिन की कवरेज

मोदी सरकार के दौरान इंसेफलाइटिस के 60 प्रतिशत ज्यादा मामले और 5869 मौतें

बिहार में इंसेफलाइटिस से पिछले दस साल में 1,700 से ज्यादा मौतें

बच्चे मर रहे हैं, उधर स्वास्थ्य मंत्री क्रिकेट, सीएम मद्य निषेध तो पीएम योग दिवस की बधाई दे रहे हैं!

(अपने सुझाव या लेख [email protected] पर भेजें)