होम टैग्स Meena Kotwal

टैग: Meena Kotwal

बीबीसी इंडिया में एक दलित पत्रकार की आपबीती, मीना कोतवाल की...

मुझे भी नोटिस तीन महीने पहले ही पकड़ाया गया था यानि अगर मैं सही समझ रही हूं तो पहले...

बीबीसी इंडिया में एक दलित पत्रकार की आपबीती, मीना कोतवाल की...

और इस तरह मेरी स्टोरी इन दोनों के बीच में ही झूलती रहती, जैसे सरकारी ऑफिस में एक फाइल को जबरदस्ती...

बीबीसी इंडिया में एक दलित पत्रकार की आपबीती, मीना कोतवाल की...

कई लोग ऑफिस में ही पूछते थे कि मैं इतनी चुप क्यों रहती हूं. मैं खुद को ही जवाब देती कि जिसके अंदर एक बवंडर चल रहा हो वो बाहर से शांत ही रहते हैं.

बीबीसी इंडिया में एक दलित पत्रकार की आपबीती, मीना कोतवाल की...

हां, मैं उन वज़हों से परेशान हो गई थी, शायद बहुत ज्यादा परेशान. कोई किसी के बारे में ऐसे कैसे लिख...

बीबीसी इंडिया में एक दलित पत्रकार की आपबीती, मीना कोतवाल की...

मैंने दलितों और वंचितों पर उनके कई आर्टिकल देखे हैं. सोशल मीडिया पर भी वे वंचितों की आवाज़ बन कर कई मुद्दों पर लिखते रहते हैं. लेकिन जो सब वो लिखते थे और जैसा मैं उन्हें जान पा रही थी, वो उससे बिल्कुल मेल नहीं खा रहे थे.

बीबीसी इंडिया में एक दलित पत्रकार की आपबीती, मीना कोतवाल की...

मैं अक्सर देखती थी कि जिस स्टोरी के आगे मेरा नाम लिखा होता था उसे सीरियसली नहीं लिया जाता था. क्या ये मेरा वहम था! इसकी पुष्टि के लिए मैंने एक बार फिर अपनी एक सहकर्मी से ट्रांसलेट की हुई कॉपी चेक करवाई तभी उसे आगे बढ़ाया, लेकिन उस बार भी मुझे निराशा ही हाथ लगी.

बीबीसी इंडिया में एक दलित पत्रकार की आपबीती, मीना कोतवाल की...

मैं ये सब सुनकर चुप हो गई और वो सब भूल गई कि किसने क्या कहा है. अब जब भी उस व्यक्ति से मिलती तो थोड़ा इग्नोर करती और वो बात तो बिल्कुल नहीं छेड़ती जिसके लिए राजा ने गुस्सा किया था. मुझे भी लगा कि शायद मैं ही ज्यादा सोचने लगी थी.

बीबीसी इंडिया में एक दलित पत्रकार की आपबीती, मीना कोतवाल की...

यहां महिला विरोधी, दलित विरोधी टिप्पणी भी होती थी और उनका मज़ाक भी बनाया जाता. कई बार इस तरह की टिप्पणी वो इतनी आसानी से कर देते कि मैं सोच में पड़ जाती कि कितना कुछ है इनके मन में. शायद एक मर्यादा के तहत बंधे होने के कारण ये अपने लेखन में वो बाते ना ला पाते हो...

बीबीसी इंडिया में एक दलित पत्रकार की आपबीती, मीना कोतवाल की...

जब हम सब अपना परिचय दे रहे थे, तब वे हमारे साथ जॉइन की गई और एक जाने-माने मीडिया संस्थान से आई एक नई सहयोगी के लिए कहते हैं कि अरे आप को कौन नहीं जानता. आपके लिए तो यहां कई फ़ोन आए थे. हम सब एक दूसरे की शक्ल देखने लगे, तब उन्हें एहसास हुआ कि उन्होंने लगता है कुछ गलत बोल दिया और वे बात बदलने लगे.

बीबीसी इंडिया में एक दलित पत्रकार की आपबीती, मीना कोतवाल की...

खैर, इस बारे में न्यूज़रूम में जाकर साफ़ हो गया कि ये बात तो केवल ट्रेनिंग का एक पार्ट है जिसे लागू करने की जरूरत नहीं है. क्योंकि वहां पहले से मौजूद लोग सर और मैम का चलन जारी रखे हुए थे. 

अन्य ख़बरें

एससी-एसटी के आरक्षण पर एक और हमला!

ऐसा लग रहा कि एससी-एसटी आरक्षण में क्रीमी लेयर लगाकर इनके समूचे तैयार हो रहे मध्यम वर्ग को आरक्षण प्रतिनिधित्व के लाभ से वंचित कर देना ही संबंधित प्रस्ताव और फैसले का उद्देश्य है.

CAA and NRC target India’s homeless Dalit-Bahujan population too

As per a report published last year, India's 86% of homeless people come from the Hindu religion. The majority of which belong to the Dalit-Bahujan community and do not have documents to prove that they came from 3 listed countries in CAA.

Australian Open: Dominant theme not Dominic but Djokovic

Australian Open was really AO- absolutely outstanding for Djokovic and specially Kenin. Both displayed this requisite combination of ‘A’ and ‘O’ characteristics rather well. Shushil Kumar Novak Djokovic (Photo: Australian Open Facebook...

जामिया मिल्लिया इस्लामिया में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हो रहे विरोध में सभी समुदाय शामिल

सैकड़ों ऐसे स्टूडेंट्स हैं जो जामिया नगर और यूनिवर्सिटी के आसपास के इलाकों जैसे बाटला हाउस, जाकिर नगर, शाहीन बाग़ ओखला विहार, सुखदेव विहार, सराय जुलेना इत्यादि जगहों में किराए के मकानों में रहते हैं.

Bala: Hair raising tale with humour and message

Bala is a continuum of celebrating trials and travails of social-cultural life of small city, as seen in films Badhai Ho Badahi, Dream Girl etc. Sushil Kumar Bala film poster (credit:...